Wednesday, February 11, 2009

तापमान में आई गिरावट

हिसार 10 फरवरी
पिछले कुछ दिनों से सूरज के गर्म होते तेवरों को मंगलवार को छाए बादलों ने ठंडा कर दिया और मौसम में ठंडक फैल गई। सुबह से ही छाए बादलों के कारण शाम को हल्की बूंदाबांदी भी हुई। हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विभाग के अनुसार आने वाले तीन-चार दिनों में पश्चिमी विक्षोभ के कारण अगले बादलों में गरज व चमक के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है तथा इसके बाद में आंशिक बादल छाए रहने व तापमान में गिरावट आने की संभावना है। इस दौरान अधिकतम तापमान 20 से 22 डिग्री सेल्सियस के बीच तथा न्यूनतम तापमान 3 से 10 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है। हवा की गति 6 से 9 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी और इसकी दिशा में बदलाव की संभावना है।
मौसम की संभावित परिस्थितियों को देखते हुए कृषि विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि बरसात की संभावना के चलते किसान गेहूं, पछेती सरसों, जौ व अन्य फसलों में दो-तीन दिन तक सिंचाई नहीं करें। जो सूरजमुखी की खेती करना चाहते हैं वो मौसम साफ होने पर ही बिजाई करें व इसके उन्नत किस्में हरियाणा सूरजमुखी नं. 1 तथा संकर किस्में केबीएसएच-1, पीएसी-36, एमएसएफएच-8, पीसीएसएच-234, केबीएसएच 44, एचएसएफएचञ्-848 का प्रयोग करें।
विशेषज्ञयों के अनुसार बादल छाए रहने के कारण सरसों की फसल पर माहू, चेपा या अल का प्रकोप हो सकता है। यदि ऐसा हो तो 250 से 400 मिलीलिटर मैटासिस्टाक्स 25 ईसी या रोगोर 30 ईसी को 400 लीटर पानी में मिलाकर प्रति एकड़ मौसम साफ होने पर ही छिडक़ाव करें।
उन्होंने बताया कि बसन्तकालीन टमाटर व मिर्च की पौध की खेत में रोपाई करें प्याज व लहसुन की फसलों की आवश्यकतानुसार निराई-गुड़ाई करें। पशुओं से संबंधित सलाह देते हुए उन्होंने बताया कि यदि गाय-भैंस को मुंह व खुरपका बीमारी से बचाव का टीका अब तक न लगवाया हो तो ये टीके लगवा लें। ये टीके पशुचिकित्सालय में मुफ्त लगते हैं। पशुओं को स्वस्थ रखने के लिए चारे के साथ प्रतिदिन 50 ग्राम आयोडीन युक्त नमक व 30 ग्राम खनिज मिश्रण अवश्य खिलाएं।
विशेषज्ञयों के अनुसार बादल छाए रहने के कारण सरसों की फसल पर माहू, चेपा या अल का प्रकोप हो सकता है। यदि ऐसा हो तो 250 से 400 मिलीलिटर मैटासिस्टाक्स 25 ईसी या रोगोर 30 ईसी को 400 लीटर पानी में मिलाकर प्रति एकड़ मौसम साफ होने पर ही छिडक़ाव करें।
उन्होंने बताया कि बसन्तकालीन टमाटर व मिर्च की पौध की खेत में रोपाई करें प्याज व लहसुन की फसलों की आवश्यकतानुसार निराई-गुड़ाई करें। पशुओं से संबंधित सलाह देते हुए उन्होंने बताया कि यदि गाय-भैंस को मुंह व खुरपका बीमारी से बचाव का टीका अब तक न लगवाया हो तो ये टीके लगवा लें। ये टीके पशुचिकित्सालय में मुफ्त लगते हैं। पशुओं को स्वस्थ रखने के लिए चारे के साथ प्रतिदिन 50 ग्राम आयोडीन युक्त नमक व 30 ग्राम खनिज मिश्रण अवश्य खिलाएं।

4 comments:

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर…तापमान में गिरावट की भविष्‍यवाणी मैने इस लिंक पर 4 फरवरी को ही कर दी थी.....आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

नारदमुनि said...

sriganganagar me bhee mousam ka aisa hee mijaj hai. narayan narayan

रचना गौड़ ’भारती’ said...

भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
www.zindagilive08.blogspot.com
आर्ट के लि‌ए देखें
www.chitrasansar.blogspot.com

Abhishek said...

Acchi jaankari. Swagat.